Press "Enter" to skip to content

सेक्सी पड़ोसन के झांट के बाल

प्रेषक : राहुल …

हैल्लो दोस्तों, में चोदन डॉट कॉम का नियमित पाठक हूँ, मेरा नाम राहुल है और में सूरत (गुजरात) का रहने वाला हूँ। अब में आपको एक रियल घटना बताता हूँ, जब मैंने अपनी एक पड़ोसन आंटी को चोदा था। हमारे घर के पास एक आंटी रहती है, वो 34 साल की है, लेकिन वो अब भी बहुत सेक्सी लगती है, उनके 2 लड़के और 1 लड़की है, मेरा उनके घर पर बहुत जाना होता है। ये बात तब की है जब मेरे कॉलेज में छुट्टियाँ थी, में घर पर ही था। फिर सुबह 9 बजे के करीब वो हमारे घर आई और मुझे बुलाकर ले गयी और मेरे घर पर बोली कि कुछ काम से भेजना है। तब में उनके साथ चला गया और फिर उन्होंने पास की दुकान पर कुछ सामान लेने भेजा। उनका बड़ा बेटा काम पर गया हुआ था और छोटी लड़की और एक लड़का उनके मामा के घर पर गये हुए थे। उनके पति भी किसी काम से कहीं बाहर गये हुए थे।

फिर में वापस आया और उनके घर पर ही सी.डी प्लेयर पर फिल्म देखने लगा, तो सी.डी के पास ब्लू फिल्म भी रखी थी। फिर मैंने देखा कि आंटी नहाने की तैयारी कर रही थी, तो तब मैंने मौका पाकर ब्लू फिल्म लगा दी, वो इंग्लिश फिल्म थी और पहले ही सीन में मेरा तो लंड खड़ा हो गया था। तो तब मैंने सोचा कि क्यों ना आंटी को नहाते हुए देखा जाए? और फिर में चुपके से उठा और बाथरूम के अंदर देखने की कोशिश करने लगा। तब मुझे अंदर झाँकने के लिए एक छोटा सा छेद मिल गया और अब में अपनी एक आँख लगाकर अंदर झाँकने लगा था। फिर जब मैंने अंदर देखा, तो आंटी की कमर मेरी साईड थी और अब मुझे उनकी गोरी-गोरी कमर और सफेद चूतड़ साफ़-साफ़ दिखाई दे रहे थे। तभी अचानक से आंटी घूमी और अब उनके हाथ में शेविंग मशीन थी, उनकी चूत पर हल्के-हल्के बाल थे।

अब मेरा तो यह सब देखकर बहुत बुरा हाल हो रहा था और अब मेरा लंड तो बिल्कुल तन गया था। अब में ये सब बहुत मज़े से देख रहा था। फिर मुझे पता ही नहीं चला कि कब आंटी ने मुझे देख लिया? और फिर उन्होंने बाथरूम का दरवाजा एकदम से खोल दिया। अब में सामने ही खड़ा था और उन्हें देखकर एकदम चौक गया और घबरा गया था, लेकिन उन्होंने दरवाजा खोलते ही कहा कि अंदर आकर देख लो ना और मुझे हाथ पकड़कर अंदर कर लिया। अब उन्होंने अपनी चूत के आधे से ज़्यादा बाल काट लिए थे। फिर उन्होंने मुझसे कहा कि काटोगे? तो तब मैंने कहा कि नहीं, मैंने कभी नहीं काटे है। अब में तो शरमा रहा था।

फिर उन्होंने कहा कि तो क्या कभी काटोगे भी नहीं? कोशिश करो और फिर उन्होंने जबरन मुझे मशीन दी और अपनी चूत आगे कर दी। अब मेरा ध्यान बालों पर कम और उनकी चूत के अंदर के हिस्से पर ज़्यादा था। अब में उसे आहिस्ता-आहिस्ता टच करने की भी कोशिश कर रहा था। अब आंटी भी सब समझ रही थी और बोली कि बाद में छू लेना, पहले ये जो थोड़े से बाल है इन्हें तो काट दे। तो तब मैंने झट से उन्हें काट दिया। फिर उन्होंने कहा कि पानी के साथ यहाँ वहाँ चिपके बालों को धो दे। तो तब मैंने पानी लिया और उनकी चूत पर अपना हाथ फैरते हुए धो दिया। अब मेरा लंड तो पेंट में से बाहर आने को बेकरार हो रहा था। तब उन्होंने कहा कि अपनी पेंट उतार दो। तो तब मैंने अपनी पेंट उतार दी। अब में सिर्फ अंडरवेयर में था। फिर मैंने टी-शर्ट उतार दी और अब मेरा लंड मेरी अंडरवेयर को ऊपर को उठाए हुए था। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर आंटी ने मेरी अंडरवेयर में अपना एक हाथ डाला और मेरे लंड को सहलाने लगी थी। फिर उन्होंने मेरे अंडरवेयर को नीचे कर दिया और अब मैंने उसे पूरा ही निकाल दिया था। अब हम दोनों बिल्कुल नंगे थे। फिर उन्होंने मेरे लंड को सहलाते हुए कहा कि तुम्हारे बाल तो बहुत बड़े है, कभी काटते क्यों नहीं? तब मैंने कुछ नहीं कहा। तो तब उन्होंने रेजर से बाल काटने के लिए रेजर आगे की, लेकिन मैंने मना कर दिया और फिर मैंने कहा कि में घर जाकर खुद काट लूँगा। तो तब उन्होंने मेरा लंड अपने एक हाथ में लिया और आगे पीछे करने लगी थी। अब मुझे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था। अब में भी उनकी चूचीयों को दबाने लगा था। फिर मैंने उनके होंठो पर एक ज़ोर का किस किया और उनके बूब्स दबाने लगा था। अब वो भी लगातार मुझे किस किए जा रही थी।

फिर मैंने उन्हें कसकर गले लगाया। अब हम दोनों नंगे थे, ऊफ क्या मज़ा आ रहा था। अब मेरा लंड उनकी नाभि पर लग रहा था और वही पर सुराख करने को बेताब था। फिर मैंने आंटी को बाथरूम में रखे स्टूल पर खड़ा किया। तो तब हमारा लेवल कुछ बराबर हुआ और फिर मैंने खड़े-खड़े ही उनकी चूत में अपना लंड घुसाने की कोशिश की। अब हम दोनों की कोशिश से मेरा लंड उनकी चूत में चला तो गया था, लेकिन इतना मज़ा नहीं आया था, क्योंकि वो अब भी नीचे थी और में इतना नीचे जा नहीं सकता था। फिर आंटी ने कहा कि में नीचे लेट जाती हूँ। तो तब मैंने कहा कि नहीं तुम घुटनों के बल हो जाओ। तब पहले तो उन्होंने ना कहा, लेकिन अब वो भी चुदने के लिए बेताब हो गयी थी और तैयार हो गयी थी। फिर वो अपने घुटनों के बल हो गयी और फिर मैंने पीछे से उनकी चूत में मेरा लंड घुसा दिया, फिर पहले धक्के में थोड़ा लंड उनकी चूत में अंदर चला गया था। तब वो बोली कि शहहह धीरे डालो। तब में बोला कि क्यों मज़ाक करती हो आंटी? तुम तो हर रोज चुदती हो। तो तब वो बोली कि कहाँ? अब तो मौका ही नहीं मिलता है और मेरी चुदाई तो काफ़ी दिनों के बाद होती है। फिर मैंने अगले धक्के में मेरा पूरा लंड उनकी चूत में घुसा दिया।

अब तो जैसे उनके शरीर में बिजली दौड़ गयी थी और अब वो भी मेरे साथ धक्के लगाने लगी थी। अब में आगे की तरफ धक्का लगाता और वो पीछे की तरफ धक्के लगाती और अब वो जल्दी ही झड़ गयी थी। अब उनकी चूत गीली और चिकनी हो गयी थी। फिर उन्होंने कहा कि अपने लंड को बाहर निकालो। तब मैंने अपने लंड को बाहर निकाला, तो तब उन्होंने अपनी पेंटी से मेरे लंड को पोछ दिया। तो तब मैंने फिर से अपना लंड उनकी चूत के अंदर डाला और ज़ोर-ज़ोर से उनकी चुदाई करने लगा। फिर थोड़ी ही देर की चुदाई के बाद वो फिर से झड़ गयी थी। अब मैंने भी अपने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी थी। तब आंटी ने कहा कि अंदर मत छोड़ना, तो तब मैंने कहा कि और कहाँ छोड़ूं? और अपने लंड को बाहर निकाल लिया। फिर वो सीधी हुई और कहा कि चूत के ऊपर छोड़ दे और फिर उन्होंने मेरे लंड को पकड़ा और आगे पीछे करने लगी थी। अब उनके थोड़ी देर तक ऐसा करने पर में झड़ गया था और फिर मैंने उनकी चूत के ऊपर ही अपना स्पर्म छोड़ दिया और उनकी चूत पर अपने लंड को रगड़ने लगा था और अपने लंड को उनकी चूत में हल्का-हल्का अंदर बाहर करने लगा था।

फिर हम दोनों खड़े हुए और अब वो मुझसे चिपक गयी थी और अब में उनके होंठो पर किस करने लगा था। फिर हम दोनों एक साथ नहाए और एक दूसरे को खूब साबुन लगाया। फिर उन्होंने मुझे और मैंने उनको कपड़े पहनाए। फिर हम दोनों बाहर आए और में पहले आकर फिर से सी.डी देखने लगा और फिर वो आई और शीशे के सामने खड़ी होकर बाल संवारने लगी। तब मैंने कहा कि आंटी लिपस्टिक लगाओ ना, मैंने कभी उन्हें लिपस्टिक लगाए हुए नहीं देखा था। तब वो बोली कि अब मेरी उम्र थोड़ी है, लेकिन मेरे बहुत कहने पर उन्होंने लाल रंग की लिपस्टिक लगाई, वो क्या लग रही थी? एक तो उनका रंग एकदम गोरा और उस पर लाल होंठ। फिर मैंने उन्हें बेड पर लेटाया और उनके होंठो को चूसने लगा था। अब वो भी मुझे चूसे जा रही थी। अब उनके होंठो का लाल रंग मेरे होंठो पर भी आ चुका था। फिर मैंने उनके कपड़े फिर से उतार दिए। तब वो कहने लगी कि नहीं अब नही, अभी तो किया था। अब मैंने सी.डी पर भी ब्लू फिल्म लगा रखी थी। फिर मैंने उनके बूब्स खूब दबाए और अब वो भी फिल्म देख-देखकर मेरा लंड खूब दबा रही थी। फिर उसके बाद भी मैंने एक बार फिर से उनकी चुदाई की। फिर मुझे जब भी कोई मौका मिला, तो तब मैंने उनकी खूब चुदाई की और खूब मजा किया।

धन्यवाद …

The post सेक्सी पड़ोसन के झांट के बाल appeared first on Chodan.com.


Source: http://www.chodan.com/feed/

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: